Oilseed processors complain of duty-free veg oil import from Safta nations - August 10, 2018 00:16 IST

Vegetable oil import falls 23% in June due to rupee depreciation :Press Trust of India | New Delhi at July 17, 2018 01:01 IST

India's palm oil imports likely to hit six-year low, say experts:India buys palm oil from Indonesia and Malaysia, with its soyoil mainly imported from Argentina and Brazil. It purchases sunflower oil from Ukraine - at August 18, 2018 03:29 IST

Breaking News Breaking News

6 SEPTEMBER / 11:38 AM

Agro News

काले चावल की खेती करा सकती है मोटी कमाई, 500 रुपए किलो तक है प्राइस


हाल के दिनों में काला चावल या ब्‍लैक राइस तेजी के साथ देश में पॉपुलर हुआ है। दरअसल पारंपरिक सफेद चावल के मुकाबले काले चावल को सेहत के लिए ज्‍यादा बेहतर माना जाता है। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, यह चावल कैंसर जैसी बीमारी से लड़ने में भी काफी कारगर है। बहुत से डॉक्‍टर भी इसके प्रयोग की सलाह देने लगे हैं।

ब्‍लैक राइस या काला चावल सामान्‍य तौर पर आम व्‍हाइट या ब्राउन राइस जैसा ही होता है। इसकी शुरूआती खेती चीन में होती थी। वहीं ये इसकी खेती असम और मणिपुर में शुरू हुई। काला चावल एंटी-ऑक्सीडेंट के गुणों से भरपूर माना जाता है। यूं तो कॉफी और चाय में भी एंटी-ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं लेकिन काले चावल में इसकी मात्रा सर्वाधिक होती है। इसके चलते बॉडी को डि‍टॉक्स होती है और कई तरह की सेहत संबंधी परेशानि‍यां दूर रहती हैं। एंटी ऑक्‍सीडेंट हमारे शरीर की विश्षाक्‍त संबंधी बीमारियों से लड़ता है। इसे कैंसर के इलाज के लिए सब से ज्यादा उपयोगी माना जाता है। आम सफेद चावल के मुकाबले इसमें ज्‍यादा विटामिन B और E के साथ कैलशिमय, मैगनीशियम, आयरन और जिंक की भी मात्रा ज्‍यादा होती है।

सेहत के अलावा इसकी खेती किसानों को अच्‍छी कमाई भी करा सकती है। आप काले चावल की खेती के जरिए पाररंरिक चावल के मुकाबले मिनिमम 500 फीसदी ज्‍यादा कमाई सकते हैं। देश के कई राज्‍यों की सरकारें इसकी खेती को प्रोत्‍साहित भी कर रही हैं। वहीं कुछ राज्‍य इसके प्रोडक्‍टशन को बढ़ावा देने की दिशा में काम कर रहे हैं।

असम में सबसे पहले शुरू हुई खेती:

भारत में सबसे पहले काले चावल की खेती असम के किसान उपेंद्र राबा ने 2011 में शुरू की। उपेंद्र असम के ग्‍वालपारा जिले के आमगुरीपारा के रहने वाले हैं। उपेंद्र को राज्‍य के कृषि विज्ञान केंद ने काले चावल की खेती के बारे में जानकारी मिली थी। बाद में उपेंद्र का यह प्रयोग काफी सफल रहा। इसके बाद आस पास के करीब 200 किसानों से इसकी खेती शुरू कर दी। इसके बाद इसकी खेती की शुरुआत मणिपुर में हुई और धीरे धीरे इसकी खेती नार्थ ईस्‍ट में पॉपुलर हो गई।

पंजाब में किसान कर रहे इसकी खेती:

नार्थ ईस्‍ट के बाद इसकी खेती पंजाब में शुरू हो चुकी है। राज्‍य के फिरोजपुर जिले में मानासिंह वाला गांव में इस साल पहली बार कुछ किसानों ने काले चावल की खेती शुरू की है। मीडिया रिपेार्ट का दावा है कि उनके पास अभी से 500 रुपए प्रति किलो तक के ऑर्डर मिलने लगे हैं। पंजाब में इस चावल की प्रति एकड़ 15 से 20 कुंतल उपज निकलने की सम्भावना है। यहां के किसानों से मरिणपुर से इस धान के सीड मंगवाए हैं।

500 फीसदी ज्‍यादा प्रॉफिट है इसकी खेती में:

यह चावल असम के कई किसानों को मोटी कमाई करा रहा है। दरअसल आमतौर पर जहां चावल 15 से 80 रु किलो के बीच बिकता है वहीं इस चावल की कीमत 250 रुपए से शुरू होती है। वहीं अगर इसे आप ऑर्गेनिक तरीके से उगाते हैं तो आपको 500 रुपए प्रति किलो तक इसकी कीमत मिल सकती है। इस हिसाब से देखें तो आम चावल के मुकाबले आप काले चावल की खेती में आप 500 से 600 फीसदी ज्‍यादा प्रॉफिट कमा सकते हैं।

कहां से हासिल करें बीज:

अगर आप काले चावल की खेती करना चाहते हैं उसके लिए आपको नॉर्थ ईस्‍ट या मणिुपर से इसके सीड मंगा सकते हैं। आप ऑनलाइन भी सीड मंगा सकते हैं। आप अपने प्रोडक्‍ट को ई-कॉमर्स कंपनियों को भी बेच सकते हैं।

कहां से हासिल करें बीज:

अगर आप काले चावल की खेती करना चाहते हैं उसके लिए आपको नॉर्थ ईस्‍ट या मणिुपर से इसके सीड मंगा सकते हैं। आप ऑनलाइन भी सीड मंगा सकते हैं। आप अपने प्रोडक्‍ट को ई-कॉमर्स कंपनियों को भी बेच सकते हैं।

कई राज्‍य सरकारें इसे कर रही प्रात्‍साहित:

एक ब्‍लॉग के मुताबिक, मणिपुर के धान योग्‍य 10 फीसदी जमीन में काले चावल की खेती हो रही है। यह चावल आम हाईब्रिड चावल के मुकाबले पानी की खपत भी कम करता है। इसके चलते इसे उत्‍तर भारत में भी आसानी से लगाया जा सकता है। असम की सरकार ने काले चावल की खेती को प्रोत्‍साहित करने के लिए 2015 में विशेष प्रोग्राम भी शुरू किया है।

Autor: Indiaclickfind.com

Tags


Recent Posts

The Soybean Processors Association of India (SOPA)

SEPTEMBER 5. 011:015 AM IST

The Soybean Processors Association of India, popularly known as SOPA, is the only national level body representing the soybean processors, farmers, exporters and brokers in India working towards the aim to strengthen soybeans as a viable crop.

Read more

Vegetable oils' import fell by 23 per cent in June

JULY 17 2018. 01:01 PM IST

Import of vegetable oils during June 2018 is reported at 10,42,003 tonnes compared to 13,44,868 tonnes in June 2017 down by 23 per cent," Solvent Extractors' Association of India (SEA) said in a statement.

Read more